थायराइड क्या है और क्यों होता है?

थायराइड क्या है और क्यों होता है? What is Thyroid? (In Hindi)
Posted on 31-01-2022

तो आप अपने आसपास थायराइड का नाम बहुत सुनते होंगे।

मेरी मां और मेरे आस-पास के काफी सारे लोगों को यह बीमारी है।

और मेरे आस-पास ही क्या,

थायराइड एक ऐसी बीमारी है जो दुनिया भर में काफी सारे लोगों को होती है।

मगर इस बीमारी के इतने आम होने के बावजूद

काफी सारे लोग हैं जो इसके बारे में नहीं जानते

और इनमें वह लोग भी हैं जिनको खुद यह बीमारी है।

तो सब को यह पता तो है की थायराइड एक बीमारी है इसमें रोज दवाई लेनी पड़ती है।

लेकिन कोई यह नहीं जानता की यह क्या प्रॉब्लम है जो उन्हें होने लगी है?

और क्या वजह हो सकती है उनके इस यह थायराइड के परेशानी की।

और जिन लोगों को थायराइड नहीं भी है उनके दिमाग में भी काफी सारे सवाल घूमते रहते होंगे।

कि कहीं उन्हें भी तो थायराइड नहीं है?

या अगर उन्हें थायराइड है तो कैसे पता चलेगा?

इसके लक्षण क्या होते हैं? सिंपटम्स क्या होते हैं? वगैरा, वगैरा।

तो अगर आप भी थायराइड की बीमारी के बारे में जानना चाहते हैं तो आप एकदम सही जगह आए हैं

और आइए जल्दी से जानते हैं कि यह थायराइड क्या है? यह थायराइड की बीमारी क्या है?

और यह क्यों होती है?

लेकिन बेटा

कुछ भी शुरू करने से पहले यह बताओ कि यह थायराइड होता क्या है?

हम सब के पास एक गर्दन है

और इस गर्दन के बीच वाले हिस्से के अंदर मौजूद होती है

एक छोटी सी तितली जैसी दिखने वाली चीज

जिसे हम थायराइड ग्लैंड कहते हैं

और यह छोटा सा दिखने वाला थायराइड ग्लैंड

हमारे शरीर के बहुत बड़े बड़े काम करता है।

जैसे की हमारे शरीर में होने वाले पाचन का ध्यान रखना

हमारे एनर्जी को कंट्रोल करना

और इस ग्लैंड का बहुत बड़ा हाथ

हमारे शरीर के ग्रोथ और डेवलपमेंट में भी होता है।

हमारे शरीर में कितना पाचन होना चाहिए? कितनी तेजी से होना चाहिए?

कितना फैट बनना चाहिए? कितनी मसल बननी चाहिए?

सब थायराइड ग्लैंड ही मैनेज करता है।

क्योंकि यह थायराइड हमारे शरीर के इतनी जरूरी कामों का ध्यान रखता है

इसका असर हमारे शरीर के लगभग हर हिस्से पे होता है।

हमारे लिवर, किडनी, दिल और यहां तक के दिमाग पे भी।

तो अपने इन सब कामों को पूरा करने के लिए थायराइड दो तरह के होरमोन रिलीज करता है।

पहला Thyroxine जिसे T4 भी कहते हैं।

और दूसरा Triidothyronine जिसे T3 भी कहते हैं।

आपने अपने Blood test के रिपोर्ट में इन हार्मोन का नाम देखा ही होगा।

T3 और T4 के द्वारा थायराइड ग्लैंड हमारे सेल्स को संदेश भेजता है

कि उन्हें कब ऑक्सीजन और न्यूट्रिएंट्स लेने की जरूरत है और कब नहीं।

और अगर हमें ज्यादा एनर्जी की जरूरत होती है तो यह थायराइड ग्लैंड ज्यादा हारमोन रिलीज करता है

जिसकी वजह से हमारी हार्ट बीट तेज हो जाती है

और हमारा डाइजेस्टिव सिस्टम तेजी से पाचन करें लगता है।

और अगर हमारे शरीर में एनर्जी ज्यादा हो गई है तो यह थायराइड ग्लैंड

इन हारमोंस का रिलीज कम कर देता है।

तो यह थायराइड एक मैनेजर की तरह है।

जो अपने कर्मचारियों को यहां वहां भेज कर उनसे काम करवाता है।

और हमारे शरीर के पाचन और एनर्जी को कंट्रोल करता है।

और कभी कबार हमारा यह थायराइड ग्लैंड सही से काम नहीं करता

अपने हारमोंस सही मात्रा में रिलीज नहीं करता

और इसी दिक्कत को हम आम भाषा में थायराइड की बीमारी कहते हैं।

अच्छा! मतलब अगर मुझे थायराइड है तो मेरी है तितली ठीक से काम नहीं कर रही!

थायराइड की दिक्कत आपको दो तरह से हो सकती है।

या तो आपका थाइरॉएड ग्लैंड बहुत ज्यादा हार्मोन बना रहा है।

जिसे Hyperthyroidism कहते हैं।

या यह थायराइड ग्लैंड बहुत कम हारमोन बना रहा है

और इस कंडीशन को Hypothyroidism कहते हैं।

तो Hypothyroidism वह कंडीशन है इसमें हमारे थायराइड ग्लैंड बहुत कम हारमोन बनाता है

जिसकी वजह से हमारे शरीर की पाचन शक्ति कमजोर हो जाती है।

जिन लोगों को Hypothyroidism होता है

उन्हें वजन बढ़ना, ज्यादा थकान होना, ज्यादा ठंड लगना, जोड़ों का सूज जाना

बालों का झड़ना, त्वचा का रूखापन जाना

और लड़कियों को पीरियड्स मे परेशानियां आना जैसी दिकतकत हो सकता है।

हां मेरा भी वजन कम नहीं हो रहा

मेरे को लग रहा है कि जो यह आप बता रहे हो ना हाई.. हाइपो.. वाला यही थायराइड है।

वहीं दूसरी तरफ Hyperthyroidism वह कंडीशन है

जिसमें आपका थाइरॉएड ग्लैंड बहुत ज्यादा हार्मोन रिलीज करने लगता है।

जिसके कारण आपके दिल के धड़कन का ज्यादा बढ़ना

ज्यादा भूख लगना, वजन का घटना

ज्यादा गर्मी लगना जैसी परेशानियां हो सकती है।

साथ ही साथ Hyperthyroidism वाले लोगों को

ज्यादा पसीना, बेचैनी, नींद ना आना जैसी परेशानियां भी हो सकती है।

तो आपने देखा कि थायराइड के लक्षण बिल्कुल उल्टे भी हो सकते हैं।

किसी का वजन बढ़ता है तो किसी का वजन घटता है।

किसी को बहुत थकान महसूस होती है तो किसी के अंदर कुछ ज्यादा ही एनर्जी भर जाती है।

लेकिन अगर आपको खुद में कोई ऐसे ही लक्षण दिखाई देते हैं?

तो आप डॉक्टर के पास जा सकते हैं।

और आपको थायराइड है या नहीं? या कौन सा थायराइड है?

यह आपके खून की जांच के बाद ही पक्का किया जाता है।

अगर आपके खून में T3 और T4 की मात्रा ज्यादा है तो आपको Hyperthyroidism है।

अगर इन हारमोंस की मात्रा आपके खून में कम है तो आपको Hypothyroidism है।

मैंने तो केई टेस्ट कराए हुए हैं मेरे को तो कितने सालों से यह थायराइड है।

लेकिन अब तक यह समझ नहीं आया की यह बीमारी लगती कैसे है?

आपके थायराइड ग्लैंड के सही से काम ना करने के कई सारे कारण हो सकते हैं।

जैसे कि खाने में आयोडीन की कमी होना

या खाने में कुछ ज्यादा ही आयोडीन होना।

किसी दवाई के साइड इफेक्ट के वजह से भी आपका थायराइड ग्लैंड खराब हो सकता है।

अगर आपकी फैमिली में किसी को थायरॉइड है

तो आपको भी थायराइड की दिक्कत होने के चांसेस बढ़ जाते हैं।

वैसे अभी तक ऐसा कुछ प्रूफ नहीं हुआ है

लेकिन थायराइड की बीमारी के लिए तनाव/स्ट्रेस को भी दोषी ठहराया जाता है।

थायराइड की बीमारी का कोई इलाज नहीं है।

इसके ट्रीटमेंट के लिए लोग दवाइयों का सेवन जरूर करते हैं।

यह गोलिया तभी तक काम करती हैं जब तक आप इन्हें ले रहे हैं।

इसीलिए एक थायराइड पेशेंट को यह दवाइयां रोज के रोज जिंदगी भर तक लेनी पड़ती है।

मैंने काफी लोगों को यह कहते हुए सुना है

कि उन्होंने अपने खानपान, एक्सरसाइज और योगा के मदद से

इस थायराइड को ठीक किया है।

और YouTube पे भी बहुत सारे लोग कुछ घरेलू नुस्खे बताते हैं थायराइड को ठीक करने के लिए।

लेकिन मुझे असल में नहीं मालूम कि यह आदतें और यह नुस्खे कितने फायदेमंद होते हैं।

Thank You

Download App for Free PDF Download

GovtVacancy.Net Android App: Download

government vacancy govt job sarkari naukri android application google play store https://play.google.com/store/apps/details?id=xyz.appmaker.juptmh